Sasta Khabar

मणिपुर में हुई हिंसा का गुनहगार कौन ?

मणिपुर की घटना यह बता रही है की यह समाज मुर्दों का समाज बनता जा रहा है लोग चुप है वे आत्मकेंद्रित होते जा रहे है तो ये समाज देश क्यूं बना है क्या यही विकास है ऐसी घटनाए क्यूं ?

मणिपुर की जो घटना हुई है उसमे पूरा देश शर्मशार हैं ये बाते मोदी जी ने कही लेकिन ये किसी ने नही कहा कि इसमें दोषी पूरा समाज और देश है 2 – 3 महीनो से पूरा देश जल रहा है अगर पहले कदम उठा लिया गए होते तो शायद ऐसा होता ही नही

एक दिल्ली की कुछ दिन पहले की घटना जिसमे एक प्रेमी अपनी प्रेमिका को चाकू गोदकर बीच चौराहे में हत्या कर देता है और लोग वीडियो बनाने में व्यस्त है किसी ने रोकने की कोशिश नही की
क्या लोगो के अंदर की संवेदना खत्म होती जा रही है ?

कुछ सभ्य कहे जाने वाले लोग गुड़गांव हरियाणा दिल्ली की एक घटना जिसमे एक पायलट के घर में उसमे काम करने वाली महिला का यौन शौषण किया जा रहा था उसके साथ मारपीट किया जा रहा था ऐसी घटना सामने आई है

जब इस तरह की ही लोग ऐसी हरकत करेंगे तो क्या होगा ?
क्या यही सभ्य लोग और सभ्य समाज की निशानी है ?

आज के लोग इतने व्यस्त हो गए है की वे अपने बच्चो को समय नहीं दे पाते है रविवार को वे अपने बच्चो के साथ कार में घूमने जाते है तो अगर उनकी कार से कोई सट जाए भी तो उन्हें ऐसी फटकार लगाते है की उन्होने कितनी बड़ी जुर्म कर दी है कभी कभी वे उन्हें दो चार थप्पड़ भी लगा देते है तो उनके बच्चे वे सभी चीजे देख रहे होते है वे क्या सीखेंगे ? हिंसा को बहुत छोटा समझने लगते है ।
हमारी समाज पूरी तरह से गलत ही रास्ते पे जा रहा है सोशल मीडिया में लोग कुछ भी बोल कर रील्स बना रहे है
एक वीडियो मैने देखा जिसमे एक बंदा बोल रहा है की पैसे से वह हर चीज खरीद सकता है क्या यह सच है ? आपकी अंतरात्मा क्या कहती है कभी समय निकालकर एक बार सोचिए

मैं कुछ दिन पहले राजस्थान घूमने गया था तो मुझे एक व्यक्ति मिले तो उनके साथ बाते के दौरान मैंने एक बात कही की राजस्थान में उस होटल वाले ने खाना बहुत सही खिलाया मन खुश हो गया मैंने दो रोटी सुबह खाई थी
तो उन्होंने रिप्लाई में क्या कहा पता है उन्होंने कहा बस यही है जिंदगी
चीजे कितनी भी अच्छी क्यों न हो एक लिमिट के बाद तुम उसे उपयोग नही कर सकते हो अगर करोगे तो तुम्हे उसका फल भुगतना पड़ेगा

सोशल मीडिया को लेकर ठोस से ठोस कदम उठाने चाहिए क्योंकि ये रिल्स बच्चे भी देखते है उनके दिमाग में अगर कुछ गलत बैठ गया तो बहुत दिक्कत हो सकती है सरकार को इस तरफ भी ध्यान देना चाहिए । और लोगो का भी यह कर्तव्य बनता है की वे उन्ही चीजों को आगे बढ़ाए जो सही हो जिसमे लोगो की हित की बात हो कुछ भी बकवास चीजों का बढ़ावा न दिया जाए
धन्यवाद🙏

Exit mobile version