सड़क हादसे में जान बचाओ और 5000 का ईनाम पाओ योजना

 

औसतन, रोज़ाना 1130 दुर्घटनाएं और 422 मौतें

प्रत्येक वर्ष, भारत की सड़कों पर लगभग 1.5 लाख लोगों की मौत होती है, जो औसतन, रोज़ाना 1130 दुर्घटनाएं और 422 मौतें बनती हैं या हर घंटे 47 दुर्घटनाएं और 18 मौतें होती हैं।

पँजाब सरकार ने उठायी पहली कदम

पँजाब  सरकार सड़क हादसों में लोगों की जान बचाने के लिए नई योजना ‘जान बचाओ और 5000 रुपये का ईनाम पाओ’ लागू करने जा रही है। यह फैसला पंजाब भवन में परिवहन मंत्री लालजीत सिंह भुल्लर और स्वास्थ्य मंत्री डा. बलबीर सिंह की अध्यक्षता में की है। पंजाब राज्य सड़क सुरक्षा कौंसिल की क्षेत्र में बैठक में लिया गया।

मंत्री ने बताया कि इस योजना के तहत मददगार व्यक्ति को अस्पताल के डाक्टर या पुलिस द्वारा ‘अच्छा मददगार’ का प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा। इस प्रमाण के आधार पर वह व्यक्ति जिला उपायुक्त कार्यालय से यह राशि लेने का पात्र होगा।

कौंसिल के चेयरमैन लालजीत भुल्लर ने कहा कि इस योजना से सड़क हादसों में घायल हुए लोगों की समय रहते जान बचाने की प्रक्रिया में तेजी आएगी। लोग भी पीड़ित की सहायता के लिए उत्साहित ज्यादा होंगे। इससे सड़क दुर्घटना में होने वाली मौतों में कमी आएगी।

वर्ष 2021 के दौरान देश में कुल 4,12,432 सड़क दुर्घटनाएं

वर्ष 2021 के दौरान देश में कुल 4,12,432 सड़क दुर्घटनाएं रिपोर्ट की गईं, जिसमें 1,53,972 जीवन खो गए और 3,84,448 लोग घायल हो गए। दुर्भाग्यवश, सड़क दुर्घटनाओं में सबसे ज्यादा प्रभावित आयु समूह 18-45 वर्ष का है, जिससे लगभग 67 प्रतिशत की मौतें होती हैं।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top