Sasta Khabar

चंद्रयान-3 के बारे में चौकाने वाले तथ्य

chandrayan3

क्यों भारत चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर ही लैंडिंग चाहता है जबकि उसके भूमध्यरेखीय क्षेत्र में लैंडिंग ज्यादा आसान है?

चंद्रमा के ध्रुवीय क्षेत्र बहुत अलग और कठिन धरातल वाले हैं कई हिस्से पूरी तरह से अंधेरे में हैं जहां सूरज की रोशनी कभी नहीं पहुंचती है और तापमान 230 डिग्री सैल्सियस से नीचे जा सकता है। सूर्य के प्रकाश की कमी और अत्यधिक कम तापमान उपकरणों के संचालन में कठिनाई पैदा करते हैं। इसके अलावा हर जगह बड़े-बड़े गड्ढे हैं, जिनका आकार कुछ सेंटीमीटर से लेकर कई हजार किमी तक फैला हुआ है। पृथ्वी के विपरीत, जिसकी अक्षीय धुरी 23.5 डिग्री झुकी हुई है, चंद्रमा की धुरी केवल 1.5 डिग्री झुकी हुई है। इस अनूठी ज्यामिति के कारण चंद्रमा के उत्तरी और दक्षिणी ध्रुवों के पास कई गड्ढों के फर्श पर सूरज की रोशनी कभी नहीं चमकती है। इन क्षेत्रों को स्थायी रूप से छायाग्रस्त क्षेत्र या पीएसआर के रूप में जाना जाता है। यह मनुष्यों के लिए अज्ञात क्षेत्र बना हुआ है।

चंद्रयान-3 भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) का तीसरा चंद्र मिशन है। इसे 14 जुलाई 2023 को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से लॉन्च किया गया । मिशन में एक लैंडर, एक रोवर और एक प्रणोदन मॉड्यूल शामिल है। लैंडर, जिसका नाम विक्रम है, दक्षिण ध्रुव क्षेत्र में चंद्र सतह पर उतरने का प्रयास करेगा। रोवर, जिसका नाम प्रज्ञा है, तब लैंडर से तैनात होगा और चंद्र सतह का exploration करेगा। प्रणोदन मॉड्यूल लैंडर और रोवर को उनके गंतव्यों तक पहुंचने के लिए आवश्यक thrust प्रदान करेगा।

चंद्रयान-3 के मुख्य उद्देश्य हैं:

दक्षिण ध्रुव क्षेत्र में चंद्र सतह पर एक लैंडर को soft-land करने की क्षमता का प्रदर्शन करना।
चंद्र सतह पर एक रोवर को तैनात करना और वैज्ञानिक प्रयोग करना।
चंद्र सतह और उसके वातावरण का अध्ययन करना।
चंद्रयान-3 का प्रक्षेपण एक बड़ी सफलता थी, और लैंडर और रोवर वर्तमान में चंद्र सतह पर गंतव्य के लिए रवाना हैं। लैंडर को 6 अगस्त 2023 को चंद्र सतह पर उतरने की उम्मीद है, और रोवर तब लैंडर से तैनात होगा और चंद्र सतह का exploration शुरू करेगा।

चंद्रयान-3 भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए एक प्रमुख मील का पत्थर है, और यह हमारी चंद्रमा की समझ में महत्वपूर्ण योगदान देने की उम्मीद है। मिशन ISRO के वैज्ञानिकों और इंजीनियरों के कठिन परिश्रम और समर्पण का भी प्रमाण है।

चंद्रयान-3 के बारे में कुछ और तथ्य यहां दिए गए हैं:

लैंडर का नाम विक्रम साराभाई के नाम पर रखा गया है, जो भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के पिता थे।
रोवर का नाम प्रज्ञा चंद्रशेखर के नाम पर रखा गया है, जो एक भारतीय खगोल भौतिकीविद् थे।
प्रणोदन मॉड्यूल का नाम चंद्रयान-1 के नाम पर रखा गया है, जो पहला भारतीय चंद्र मिशन था।
चंद्रयान-3 मिशन की कुल लागत लगभग 1 बिलियन डॉलर अनुमानित है।
मिशन के 15 दिनों तक चलने की उम्मीद है।

Exit mobile version